ईसबगोल भूसी खाने का तरीका – फायदे – नुकसान

  • ईसबगोल की भूसी खाने के तरीके
  • ईसबगोल के फायदे
  • ईसबगोल की भूसी के नुकसान
  • ईसबगोल का उपयोग कैसे करें
  • ईसबगोल की भूसी खाने का सही तरीका
  • ईसबगोल क्या है

    ईसबगोल को आमतौर पर Psyllium भूसी के रूप में जाना जाता है। यह एक गीला एजेंट के रूप में कार्य करता है जो मल को बढ़ाने में मदद करता है और जिससे जुलाब को बढ़ावा मिलता है। इसबगोल के बीज मीठे, श्लेष्मिक, रेचक, कसैले, विरोधी भड़काऊ, expectorant होते हैं, और यह पेट के लिए एक आदर्श टॉनिक है। यह एक वार्षिक बौना जड़ी बूटी है जो 40 सेमी की ऊंचाई तक बढ़ सकता है। यदि हम ईसबगोल के वास्तविक अर्थ से चलते हैं, तो वह है “इसाप” और “घोल“, जिसका अर्थ है घोड़े का कान, ईसबगोल के बीज का आकार।

    ईसबगोल की खेती भारत की ठंडी और सूखी जगहों पर की जाती है क्योंकि बीज भूसी की अत्यधिक पानी अवशोषित करने वाली संपत्ति है। इसबगोल के पौधे में संकीर्ण और लंबी पत्तियां होती हैं, जिसमें 30% अघुलनशील और 70% घुलनशील फाइबर होता है। पपड़ी, पौधे और बीज सभी एक साथ “Psyllium” कहलाते हैं। Psyllium घुलनशील फाइबर का एक केंद्रित स्रोत है, और इसे मिलिंग द्वारा psyllium बीज से अलग किया जाता है, जो एक यांत्रिक प्रक्रिया है। ईसबगुल का मुख्य उत्पाद साइलियम भूसी है।

    इसबगोल त्वचा की समस्याओं जैसे मुंहासे या पिंपल्स के मामले में अच्छे परिणाम देता है। आयुर्वेद के अनुसार, कपा की वृद्धि से सीबम का उत्पादन बढ़ता है और रोमकूप बंद हो जाते हैं। इससे सफेद और ब्लैकहेड्स दोनों का निर्माण होता है। एक अन्य कारक, पित्त के बढ़ने से लाल पपल्स (धक्कों) और मवाद के साथ सूजन होती है। इसबगोल का पेस्ट लगाने से सीबम के अत्यधिक उत्पादन को नियंत्रित करने में मदद मिलती है और रोम छिद्र बंद हो जाते हैं। यह अपनी सीता (ठंड) और रोमन गुणों के कारण सूजन को कम करने और सुखदायक प्रभाव देने में मदद करता है।

    ईसबगोल की भूसी खाने के तरीके

    टिप्स:

    • 1-2 चम्मच ईसबगोल की भूसी लें और इसे पानी में भिगो दें।
    • अर्ध-ठोस मिश्रण प्राप्त करने के लिए कुछ समय तक प्रतीक्षा करें।
    • एलोवेरा जेल और बादाम का तेल मिलाएं और एक पेस्ट बनाने के लिए अच्छी तरह से मिलाएं।
    • इसे चेहरे पर लगाएं और 15-30 मिनट तक प्रतीक्षा करें।
    • इसे ठन्डे पानी से धो लें।
    • इसे सप्ताह में एक या दो बार दोहराएं।

    ईसबगोल के फायदे

    आधुनिक विज्ञान मैं देखें

    साबोल बवासीर के प्रबंधन में फायदेमंद है। बवासीर पुरानी कब्ज का एक परिणाम है। इसबगोल फाइबर का एक समृद्ध स्रोत है। यह पानी को अवशोषित और बनाए रखने में मदद करता है। यह मल को भारी, मुलायम और आसानी से पास कर देता है। इस प्रकार, इसबगोल पुरानी कब्ज का प्रबंधन करता है जिससे बवासीर हो सकती है। यह बवासीर से जुड़ी भीड़ और रक्तस्राव को भी कम करता है।

    आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति

    इसबगोल अपने सीता (ठंड) और गुरु (भारी) गुणों के कारण बवासीर का प्रबंधन करने में मदद करता है। इसबगोल भी अपने हल्के रेहाना (रेचक) प्रकृति के कारण आंतों के संकुचन और पेरिस्टाल्टिक आंदोलनों को उत्तेजित करता है जो मल के पारित होने में मदद करता है।

    1: इसबगोल और कोलेस्ट्रॉल प्रबंधन में इसके लाभ

    इसबगोल आसानी से पित्त एसिड और वसा को बांध सकता है, जिससे शरीर से उनके आसान उत्सर्जन की सुविधा मिल सकेगी। इस प्रक्रिया के दौरान, जब पित्त शरीर से उत्सर्जित हो रहा होता है, तो जिगर पित्त की समान मात्रा का उत्पादन करने के लिए अतिरिक्त कोलेस्ट्रॉल का उपयोग करता है। इस तरह कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम हो जाता है। वहाँ वैज्ञानिक सबूत दिखाते हैं कि 6 सप्ताह के लिए 6 ग्राम ईसबगोल एलडीएल कोलेस्ट्रॉल के स्तर को अपनी मूल सामग्री के 6% तक कम कर सकता है। इसबगोल भी शरीर में एचडीएल कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ाने में मदद कर सकता है।

    2: इसबगोल और दिल की सेहत बनाए रखने में इसके फायदे

    यह सर्वविदित है कि सभी प्रकार के फाइबर हृदय के लिए अच्छे होते हैं। अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन (एएचए) कहता है कि आहार फाइबर का सेवन शरीर में अच्छे और बुरे कोलेस्ट्रॉल का प्रबंधन करने में मदद करता है, जो सीधे हृदय रोग, टाइप 2 मधुमेह, स्ट्रोक और मोटापे के जोखिम को कम करने में मदद करेगा। ऐसे वैज्ञानिक अध्ययन हैं जो बताते हैं कि आहार में ईसबगोल का सेवन स्ट्रोक के जोखिम से बचने के लिए शरीर में ट्राइग्लिसराइड्स को कम कर सकता है। वैज्ञानिक अध्ययनों से पता चला है कि प्रति दिन 10.2 ग्राम ईसबगोल का सेवन एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को प्रभावी ढंग से कम कर सकता है।

    3: इसबगोल कब्ज में लाभ करता है

    इसबगोल अपनी रेचक संपत्ति के लिए जाना जाता है। यह एक bulking एजेंट है जो मल के आकार-वजन को बढ़ाता है और जिससे कब्ज से राहत मिलती है। इसबगोल, जब किसी भी तरल भोजन में फैलाया जाता है, तो यह बहुतायत में आयनों का उत्पादन करता है, जो इलेक्ट्रोस्टैटिक आंशिक रूप से पचने वाले भोजन को बांधता है जो पेट से छोटी आंत में गुजरता है। इसबगोल में एक शक्तिशाली जल-अवशोषित गुण होता है जो मल की नमी और वजन को बढ़ाने में मदद कर सकता है। इससे मल को आसानी से पारित किया जा सकता है। इस बात के वैज्ञानिक प्रमाण हैं कि इसबगोल घुलनशील फाइबर गेहूं के चोकर के अघुलनशील फाइबर से अधिक प्रभावी है। कम से कम दो सप्ताह में दिन में दो बार 5.1 ग्राम ईसबगोल का सेवन मल त्याग को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है।

    4: दस्त और इसबगोल का संबंध

    वैज्ञानिक साहित्य से पता चलता है कि इसबगोल का सेवन नियमित रूप से मल की मोटाई बढ़ाकर दस्त से राहत देने में मदद करता है, जिससे यह बृहदान्त्र के माध्यम से गुजरना धीमा कर सकता है। लैक्टुलोज से प्रेरित दस्त से पीड़ित रोगियों के मामले में, रोजाना तीन बार 3.5 ग्राम ईसबगोल का सेवन उनके पेट खाली करने के समय में सुधार कर सकता है। इसलिए, यह दस्त को कम करने और मल त्याग को सामान्य करने में मदद करता है।

    5: रक्त शर्करा के स्तर के प्रबंधन में इसबगोल का उपयोग

    यह सर्वविदित है कि फाइबर का सेवन भोजन के प्रति शरीर की ग्लाइसेमिक प्रतिक्रिया को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है, जिससे इंसुलिन और रक्त शर्करा के स्तर में कमी आती है। इसके अलावा, इसबगोल की प्रसिद्ध जल-अवशोषित संपत्ति पेट में एक जेल बनाने में मदद कर सकती है, जो पाचन प्रक्रिया को धीमा कर सकती है और रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित कर सकती है। एक वैज्ञानिक अध्ययन से पता चला है कि दिन में दो बार 10 ग्राम ईसबगोल का सेवन टाइप -2 मधुमेह के खतरे को कम कर सकता है।

    6: सत्यता और वजन घटाने में इसबगोल की भूमिका

    सभी तंतुओं में एक चिपचिपा द्रव बनाने का गुण होता है, जो वजन घटाने और तृप्ति को नियंत्रित करने में मदद करेगा। वजन बढ़ाने को नियंत्रित करने का एक और तंत्र पेट खाली करने और भूख को कम करने से है, जो शरीर द्वारा कैलोरी की मात्रा को नियंत्रित करता है। इसबगोल की खुराक आसानी से इस जरूरत में फिट हो सकती है। भोजन और भूख की इच्छा कम हो सकती है जब कोई नाश्ते और दोपहर के भोजन से पहले 10 ग्राम ईसबगोल ले सकता है। इसबगोल की खुराक वसा और बॉडी मास इंडेक्स के प्रबंधन में भी मदद कर सकती है।

    7: इसबगोल एक प्रीबायोटिक के रूप में

    प्रीबायोटिक्स ऐसे यौगिक हैं जो ज्यादातर अपच योग्य होते हैं लेकिन आंतों के बैक्टीरिया या प्रोबायोटिक्स के विकास को बढ़ावा देने में मदद करते हैं। वैज्ञानिक रिपोर्टें बता रही हैं कि इसबगोल में प्रीबायोटिक गुण होते हैं। इसबगोल का हिस्सा किण्वनीय है, और ब्यूटाइरेट जैसे शॉर्ट-चेन फैटी एसिड इसके उत्पाद हैं। यह लघु-श्रृंखला फैटी एसिड उत्कृष्ट स्वास्थ्य लाभ के लिए जाना जाता है।

    ईसबगोल की भूसी के नुकसान

    इसबगोल से श्वसन संबंधी विकार हो सकता है।

    कुछ रिपोर्टों से पता चलता है कि इसबगोल का सेवन एलर्जी, सांस लेने में समस्या और खुजली से संबंधित हो सकता है। इसबगोल के धुएं के साँस लेने के बाद ब्रोन्कियल संकट के कुछ संकेत हैं।

    इसबगोल सूजन का कारण हो सकता है।

    ईसबगोल के अधिक सेवन से गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट और मलाशय से गुजरने वाली गैस में कठिनाई होती है, जो आगे चलकर सूजन और गैस प्रतिधारण में समस्या का कारण बनती है।

    इसबगोल के कारण दम घुट सकता है।

    इसबगोल के साथ अतिरिक्त पानी लेने की सलाह दी जाती है। पानी के बिना, अगर ईसबगोल निगल जाती है, तो घुटन हो सकती है।

    सबोल एक श्वसन विकार का कारण हो सकता है।

    कुछ रिपोर्टों से पता चलता है कि इसबगोल का सेवन एलर्जी, सांस लेने में समस्या और खुजली से संबंधित हो सकता है। इसबगोल के धुएं के साँस लेने के बाद ब्रोन्कियल संकट के कुछ संकेत हैं।

    इसबगोल से सूजन हो सकती है।

    इसबगोल के अधिक सेवन से गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट और रेक्टम से होकर गुजरने वाली गैस में दिक्कत होती है, जो आगे चलकर ब्लोटिंग का कारण बनती है और गैस रिटेंशन की समस्या पैदा करती है।

    इसबगोल चोकिंग का कारण हो सकता है।

    इसबगोल के साथ अतिरिक्त पानी लेने की सलाह दी जाती है। पानी के बिना, अगर ईसबगोल निगल जाता है, तो वह घुट सकता है।

    ईसबगोल का उपयोग कैसे करें

    इसबगोल पाउडर शहद या गुलाब जल के साथ

    • ए। 1-2 चम्मच ईसबगोल पाउडर लें।
    • बी शहद या गुलाब जल के साथ मिलाएं।
    • सी। इसे दिन में एक बार प्रभावित जगह पर लगाएं।

    ईसबगोल की भूसी खाने का सही तरीका

    ईसबगोल की भूसी की खुराक एक गिलास पानी या फलों के रस (लगभग 8 औंस) में लें। मिलाने के बाद इसे सीधा पिएं। कैप्सूल को एक गिलास पानी (8 औंस) के साथ पूरा निगल लिया जाना चाहिए।

    स्वस्थ आहार का सेवन, खूब पानी पीना और नियमित सौम्य व्यायाम करना सभी कब्ज को रोकने में मदद कर सकते हैं।

    ईसबगोल की भूसी लेने से पूरा लाभ महसूस करने में आपको कुछ दिन लग सकते हैं।

    Related Posts

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *